Type Here to Get Search Results !

यार का सताया हुआ है लिरिक्स | बी प्राक (ज़ोहराजबीन)

मुझे लगता था नशे में, तुझे भूल जाऊँगा
मुझे लगता था नशे में, तुझे भूल जाऊँगा

तू और याद आयी तो, लगा ऐसा नहीं करते
तू और शराब, दोनों एक जैसे हो
दोनों नशा करते हैं, वफ़ा नहीं करते

बहारों की रुत है, फिर भी मेरे
बहारों की रुत है, फिर भी मेरे
बाग़ का फूल मुरझाया, हुआ है

[शराब पीते पीते, जिसके हाथ कांपते हो
तो ये समझो वह, यार का सताया हुआ है] (2)

हम पीते नहीं है, पिलाई गयी
अब तक न वह भुलाई गयी
जो क़ब्रों पे बैठ, के शायरी करे
हो वो ज़ख्मों ने, शायर बनाया हुआ है



[शराब पीते पीते, जिसके हाथ कांपते हो
तो ये समझो वह, यार का सताया हुआ है] (2)

हो मैंने भिजवाई, उसे झूठी खबर
के दुनियां से, दूर मैं पक्का हुआ

हो मैंने भिजवाई, उसे झूठी खबर
के दुनियां से दूर, मैं पक्का हुआ

हो तुझपे जो मरता था, मर गया जानी
तुमने कहा चलो, अच्छा हुआ

हो लोगों को देखा, दफनाते हैं लोग
हो मैंने मुझे, दफनाया हुआ है

शराब पीते पीते, जिसके हाथ कांपते हो
तो ये समझो वह, यार का सताया हुआ है

मेरे यार पीते पीते, जिसके हाथ कांपते हो
तो ये समझो वह, यार का सताया हुआ है

सताया हुआ है, सताया हुआ है

है रब यहाँ तो, बात kare
हो मुझसे कभी, मुलाक़ात करे

है रब यहाँ तो बात करे, हो मुझसे कभी मुलाक़ात करे
टूटे दिलों को जोड़े नहीं, कैसे वह दिन को रात करे
रात करे

मैं सच बोलूं रब, यहाँ है ही नहीं
बस लोगों ने पागल, बनाया हुआ है

[शराब पीते पीते, जिसके हाथ कांपते हो
तो ये समझो वह, यार का सताया हुआ है] (2)

मैं पागल हूँ,, और बोहत पागल हूँ
मैं पागल हूँ, और बोहोत पागल
पर ये भी बात है

के दिल सच्चा है, छीन तो लेता
तुझको सरेआम मैं, पर मसला यह के शोहर
तेरा आदमी अच्छा है

Yaar Ka Sataya Hua Hai Lyrics | B Prak (Zohrajabeen)